Show menu
Close
FAQ FAQ Sign in Sign in
Close
ADVERTISEMENT

[Resolved]  R G Inter College, Meerut — Illegal Demand for Donation

Dear Madam/Sir and All reading this message

As per the Compulsory Education Bill of Govt, Education has been made free for all up to the Class 8 in all Govt and Aided Schools. However, The Principal of Raghunath Girls Inter College, Meerut called a Teacher-Parent Meeting on Aug 18, 2010 and lamented that due to making education free for all up to class 8, the school is facing serious problem of money and school is not able to provide for students very basic facilities including furniture, electricity, printing of question papers, chalk and black boards, maintenance of school and so on. The principal explained and informed all parents present there that if parents will not help the school, all above mentioned facilities will no more be extended to their children. As even the poorest parents can't see their children suffering without electricity and so on, many of the parents agreed to contribute some amount to the school for improving the situation. When it came to the amount to be contrinuted, the Principal asked all the parents to continue to pay the amount equal to regular fee per student!!

Like me, all parents had questions that how it could be justified to pay the same amount as before to continue the existing facility. Means, the benefit of "FREE EDUCATION" has been encroached by the school and parents don't want to go against the school as they are afraid for the future of their children.

In worst case, school could have asked some part of previous fee but not 100% of it, and that too, after 100% free education!!

I am mentioning this problem not because it is a matter of big amount in terms of money per head, but it represents how schools/institutions get inappropriate advantage due to submissive approach of masses. (This would result in 3000 students X Rs 500 each student = Rs 30 Lakhs)

Some one has to stop this corruption, we are afraid for the future of our children and can't say anything to School, our disagreement we have already shown and have smell what would happen if we don't fulfill the demand of school.

Regards

Kamet Jain (changed name)
ADVERTISEMENT
Complaint marked as Resolved Aug 13, 2020
Complaint comments  5 CommentsShareTweet

Comments

This is dark face of our schools
मेरे मित्र की बेटी इस स्कूल मे पढ़ती है. मैने उस बच्ची से पूछ कि आपका पहचान पत्र कहाँ है? जवाब मिला की स्कूल ने अभी तक नहीं बनाया! क्यों नहीं बनाया? तो जवाब था की क्लास टीचर बोलती हैं की सब का एक साथ बनाएँगे!! साल ख़तम होने को आया पर आइ डी कार्ड नहीं बना. पूछा की स्कॉलरशिप आई? तो पता चला की इस साल की तो क्या, दो साल पहले की भी स्कॉलरशिप दलित छात्राओं को वितरित नहीं की गयी है!! अल्प संख्यकों को दे दी गयी, पिछड़ों को दे दी गयी पर अनुसूचित जाति के छात्रों को नहीं दी गयी!! क्यों ? पता नहीं!! इन स्कूलों का कुछ हिसाब किताब है भी की बस ये मनमानी ही करते रहेंगे!! ऊपर से यहाँ की टीचर शारीरिक दंड प्रतिबंधित होने के बावजूद अभी भी छात्राओं को तमाचे मारती हैं, पिटाई करती हैं, ये सब बंद होना चाहिए, तुरंत!!
आदरणीय पाठक गणो

मैं एक छोटा सा समाज सेवी हूँ और अक्सर महिला शिक्षा के प्रसार मे मदद करने के उद्देश्य से ग़रीब बस्तियों मे लोगों और छात्र छात्राओं से बात चीत करके उनकी समस्याओं का पता लगाया करता हूँ. कुछ दिनों से में मेरठ शहर के काफ़ी प्रतिष्ठित माने जाने वाले स्कूल " रघुनाथ गर्ल्स इंटर कॉलेज" की मैं शिकायतें सुन रहा हूँ और सोचा की इन्हे आपके साथ शेयर करूँ. समस्याएँ इस प्रकार हैं:

1. परिचय पत्र का ना बनाना: साल ख़तम होने को आ रहा है, पर छात्राओं के परिचय पत्र अभी तक नहीं बनाए गये!! कारण? हो सकता है की कोई घोटाला चल रहा हो!! छात्राओं का आइ डी कार्ड तो पहले ही दिन बन जाना चाहिए था, तो अभी तक क्यों नहीं बनाया गया, इसकी जाँच होनी चाहिए!!

2. छात्राओं की छात्र वृत्ति: दो साल से अनुसूचित जाती की छात्राओं को छात्र वृत्ति नहीं दी गयी है, फार्म भरवा लिए जाते हैं और इसके बाद कोई जवाब नहीं देता की क्या हुआ!! कहीं छात्र वृत्ति स्कूल तो नहीं खा रहा?

3. बैंक अकाउंट का न खुलवाना: नियमानुसार स्कूल को छात्राओं के बैंक अकाउंट्स अपनी और से खुलवाने चाहिएं. लेकिन नहीं खुलवाए गये!! जिन छात्राओं ने अपने आप कोशिश की, उनके अकाउंट उनका परिचय पत्र ना होने की वजह से नहीं खुल पाए. क्या है ये सब? क्या स्कूल मे कोई घोटाला चल रहा है छात्राओं के हिस्से की छात्र वृत्ति खाने का?

4. कुछ महीने पहले स्कूल ने खुले आम डोनेशन माँगी थी.. कहीं ऐसा तो नहीं की स्कूल उस डोनेशन के लिए छात्राओं की स्कॉलरशिप को ही खा रहा हो?

5. पढ़ाई का खराब माहौल: छात्राओं ने बताया की स्कूल बस नाम का ही रह गया है, पढ़ाई के नाम पर बस दिखावा किया जाता है, टीचर क्लास मे नहीं आतीं और सिर्फ़ कभी कभार होमे वर्क देकर काम पूरा कर लेती हैं. जब छात्राएँ काम पूरा नहीं कर पातीं हैं तो उन्हे समझाने के बजाए दंडित और अपमानित किया जाता है.

6. शारीरिक दंड और बुरा बर्ताव: सबसे शर्मनाक बात जो सामने आई वो ये थी की यहाँ की टीचर अभी भी छात्राओं को कठोर शारीरिक दंड देती हैं. इसकी वजह से ना केवल बच्चों के आत्म सम्मान को चोट पहुँचती है बल्कि कई छात्राएँ स्कूल जाने से ही डरती हैं. जहाँ देश मे शिक्षा के प्रसार पर हर सरकार ज़ोर दे रही है, वहीं ये स्कूल छात्राओं के लिए स्कूल छोड़ने का माहौल प्रदान कर रहा है. मालूम हो की ये स्कूल सरकारी सहायता प्राप्त है और पढ़ाई का सारा खर्च सरकार देती है, विशेषकर जबसे अनिवार्य शिक्षा
का क़ानून लागू हुआ है...

आप लोगों से अनुरोध है की इस पर अपनी राय दे और जो लोग मेरठ से हैं, वे अपना योगदान दें ताकि हमारे देश में कोई अनपढ़ ना रहे, देश सही मायनों मे उन्नति करे और ये मासूम बच्चे अपने सपने जी सकें!!

धन्यवाद!!
R G INTER COLLEGE MEERUT

I request this School to please treat its Girls Students as per the prevailed rules of Government!!
As per Govt. Directive, Education is free and Compulsory up to Class 8 and any kind of punishment, Physical or Mental is an OFFENSE and such teachers may be booked under IPC.

Please provide your best support to nurture the young generation of India, specially Girls. Our country is lagging far behind in Woman's Education and such behavior is a crime and totally uncalled for!!

I also request the Principal of this school, to please take care and control its Teachers, who I know, are frequently absent from the classes!!

If it is true that ID Cards are not provided yet to its students, its smell something going in the school Management!

I have also noticed your school bus, which is packs the students like Animals!! Why don't you run more buses? Every student is paying equal price, then why 2/3 of the students travel standing all the way?

Hope, the Principal of this College will take necessary actions to safeguard the future of its Students and to keep the glory of this old school in High!!

Thank you
ADVERTISEMENT
This is sad!!

Post your Comment

    I want to submit Complaint Positive Review Neutral Comment
    code

    Contact Information

    Meerut City
    Uttar Pradesh
    India

    Complaint categoryCategory: Schools
    Add Company Information

    ADVERTISEMENT